COMPUTER MEMORY KYA HAI :- Hello Friends, yourstudynotes.com में आपका एक बार फिर से स्वागत है आज हम इस Post के जरिये बताने जा रहे है Computer Memory Kya Hai और ये Computer के लिए कितनी जरूरी है तो बने रहिये हमारी इस Post के साथ!

Computer Memory Kya Hai

“Computer Memory” Friends जैसे कि आप सभी को पता होगा ‘Memory ‘ यानिकी “यादाशत” होती है अब Memory इंसान कि हो या फिर Computer कि हो दोनों के लिए बहुत ही Important है जैसे हमें अपनी चीजे , बातें, और कई सारी Habit को याद रखने के लिए Brain कि जरूरत होती है उसी Type से Computer में Data को Store करने के लिए Computer Memory कि जरूरत होती है वैसे तो Computer का Brain C.P.U (Central Processing unit) को बोला जाता है लेकिन C.P.U input data को Process करके Arithmetic and Logical Calculation करता है लेकिन उस Process Data को Save भी करना है तो यह काम Computer Memory करती है इसलिए C.P.U Box के अंदर Computer Memory Chip के रूप में होती है जहाँ सभी जानकारी और data 0,1 के Form में Store होती है

Computer Memory को हमने दो भागो में बाँटा है

computer memory

 

Primary Memory: –

Primary Memory को हम Main Memory भी कहते है क्योंकि ये C.P.U से जुड़ने वाली पहली मेमोरी होती है यानिकी यह C.P.U से directly Connect रहती है Primary Memory एक Volatile Memory है जब हम किसी भी input device से instruction देते है तो C.P.U उसे Arithmetic and logical Calculation लगा के Primary Memory तक पहुचता है यानिकी हम जो present में जो Work कर रहे होते है वह सब हमPrimary Memory पर कर रहे होते है यह एक अस्थाई Memory होती है यानिकी जब हमारे Computer का Power Cut हो जाये तो जो हम Present में काम के रहे है वह Delete हो जाता है

COMPUTER MEMORY KYA HAI

Primary Memory Two types कि होती है

  1. Temporary

  2. Permanent

For Example- RAM, ROM, Cache

RAM: –

RAM हमारे phone कि हो या फिर Computer, Laptop कि दोनों के लिए बहुत ही Important है इसे हम Random Access Memory भी कहते है हमारे Computer, Phone and laptop कि Speed हमारी RAM पर ही Depend होती है जितनी अच्छी RAM होगी हमारे Computer, Phone and Laptop कि Speed उतनी ही अच्छी होगी RAM कई Type कि होती है

For Example- 2GB RAM, 4GB RAM etc. RAM एक Volatile Memory है यह एक Temporary memory होती है यानिकी यह Temporary रूप में काम करती है यह हमारे data को Save नही करती है Computer का Power cut होने पर हमारा Data Delete हो जाता है For Example- जैसे कि Friends मेरी इस पोस्ट को आप अपने Computer, Phone या Laptop पर पड़ रहे है या कोई Work कर रहे है वह सारा Work आप अपनी RAM पर ही कर रहे है और अगर आपके Computer का Power Cut हो जाये और अपने अपने Work को Save न किया होतो वह Delete हो जायेगा इसलिए इसे temporary memory कहा जाता है यह Present work पर और Temporary रूप से काम करती है

RAM दो Type कि होती है

  1. DRAM
  2. SRAM

DRAM: –

DRAM को हम Dynamic Random-access memory भी कहते है ये बहुत ही Simple memory है और इसे जल्दी – जल्दी Refresh करने कि जरूरत पड़ती इसके जल्दी जल्दी refresh होने के कारण इसकी Speed कम होती है

SRAM: –

SRAM को हम Static Random-access memory भी कहते है SRAM कम Refresh होती है और ये कम Refresh होने के कारण इसकी Speed अच्छी होती है और यह डाटा को Memory में ज्यादा time तक रखती है DRAM कि अपेक्षा SRAM तेज और महंगी होती है

ROM:-

ROM को हम Read only memory भी कहते है जैसा कि Friends आपको नाम से ही पता चल रहा है कि यह Read only memory है मतलब हम इसे Read (पढ़) कर सकते है हम इसमें कुछ Write नही कर सकते है जब Company ROM को Manufacturing करती है तब उसमे Data Write करती है उसके बाद हम इसमे कुछ Write नही कर सकते है ROM एक Non-Volatile Memory होती है RAM और ROM दोनों ही एक दूसरे कि Opposite Memory है यानिकी हमारे Computer का Power Cut off होने पर ROM का Data वैसा का वैसा ही रहता है उसमे Data Delete नही होता है और RAM में Data Power के रहने तक रहता है

ROM तीन प्रकार कि होती है

  1. PROM [Programable Read Only Memory]
  2. EPROM [Erasable Programable Read Only Memory]
  3. EEPROM [Electrical Erasable Programable Read Only Memory]

Cache Memory: –

Cache Memory चाहे Phone कि हो या आपके computer कि दोनों के लिए बहुत Important होती है Cache Memory Size में बहुत छोटी होती है लेकिन Computer कि Primary Memory से बहुत Fast होती है जब हम किसी भी Input Device से जिन Program or Instruction कम हम बार बार Use करते है तो उनको Cache Memory उन सभी Program को Save कर लेती है जब Processor कोई भी Data Process करने से पहले Cache Memory को Check करता है इस प्रकार आपका Computer or Phone भी तेजी से काम करता है

Secondary Memory: –

Secondary memory C.P.U से Indirectly Connect रहती है यह एक permanently memory है इसमें Data permanently save रहता है यह एक Non-Volatile memory है इसमें Data स्थायी रूप से रहता है फिर चाहे Power हो या नही इसमें data एक बार Save करने पर जब तक हम न चाहे तब तक Delete नही होता है Secondary Memory Computer का भाग नही है इसे अलग से जोड़ा जाता है Secondary memory कि Speed Primary memory कि अपेक्षा धीमी होती है इसमें Data बहुत ही Slow transfer होता है

Secondary memory कि कुछ Device है जिन्हें Auxiliary Storage Device भी कहते है इन्हें हम Portable device भी कहते है यानिकी ये आसानी से कही भी ले जाई जा सकती है for example-

HDD (Hard Disk Drive), Blue ray disk, Memory Card, Pen drive etc.

 

Primary memory Secondary memory
Primary memory volatile memory है | Secondary memory non- volatile memory है |
यह बहुत ही fast memory होती है | यह slow memory होती है |
यह data को अस्थाई रूप से Store करती है | यह Data को स्थाई रूप से Store करती है |
यह Memory computer के अंदर ही होती है | इस Memory को हम Computer के बहार से भी लगा सकते है |
यह C.P.U से directly connect रहती है | यह C.P.U से Indirectly connect रहती है |
Primary memory की Storage क्षमता Secondary memory से कम होती है | Secondary memory की क्षमता Primary memory से अधिक होती है |
Memory ex- RAM, ROM, Cache Memory ex- HDD, Pendrive, MMC etc.